!!! कापीराईट चेतावनी !!!

© इस ब्लॉग पर मौजूद सारी रचनाएँ लेखक/ कवि की निजी और नितांत मौलिक है. बिना लिखित आदेश के इन रचनाओं का अन्यत्र प्रकाशन- प्रसारण कॉपीराइट नियमों का उल्लंघन होगा, और इस नियम का उल्लंघन करनेवाले आर्थिक और नैतिक हर्ज़ाने के त्वरित ज़िम्मेवार होंगे.

मंगलवार, 2 अक्तूबर 2007

ग़ज़ल



रंजो- गम को पीना सीखो !
अब तो हँसकर जीना सीखो !!

इज़्ज़त जहाँ में जो हुई गलीज़
फटे दामन को सीना सीखो !

जिनके लिए है खुदगर्ज़ी अहम
करना उनपे यकीं ना सीखो !

मिलेगी बेशक जहाँ में राहत
बस बनना ग़मगीं ना सीखो !

सैर कर हर शय में बेबाक
अब ठहरना कहीं ना सीखो !



-- "प्रसून"

1 टिप्पणी:

रंजू ने कहा…

dard ko pee ke hi jiya ja sakata hai
bahu sahi aur sundar likha hai..badhaai aapko