!!! कापीराईट चेतावनी !!!

© इस ब्लॉग पर मौजूद सारी रचनाएँ लेखक/ कवि की निजी और नितांत मौलिक है. बिना लिखित आदेश के इन रचनाओं का अन्यत्र प्रकाशन- प्रसारण कॉपीराइट नियमों का उल्लंघन होगा, और इस नियम का उल्लंघन करनेवाले आर्थिक और नैतिक हर्ज़ाने के त्वरित ज़िम्मेवार होंगे.

सोमवार, 29 दिसंबर 2014

*** देगा कौन... ! ***



तुम्हारी उनींदी आँखों से
मैंने मुमूर्ष सपनों को
फिर सँवरते देखा है,
और देखा है,
अपने ही अंदर,
अंतर्द्वंद्वों संग
उन्हें लिपटकर ख़ामोश होते हुए.

तुम अँगराइयों- सी
पूरी रात में मेरी,
कभी कुछ यों शरीक हुई;
और तेरे मदहोश ख़याल
मेरे वजूद पर
चस्प रहे कुछ इस तरह
कि मैं स्याह रात का
अपनी रूह में
हर रात
इकलौता गवाह बना रहा.

अपनी भटकती रातों का भी
तुम्हारे प्रेम- बाज़ार में
एक खुली
मैं अब नीलामी चाहता हूँ,
यों कि तुम्हारे एहसासों का
हर ख़ाका अब आज
यहाँ जो बिकाऊ है.

चाहिए होगा
तुम्हें भी,
भुलावे में किये
अपनी मदमाती मुहब्बत की
कुछ तो बेशर्त क़ीमत.

जो सको ले जाओ,
सबों- सी तुम अपना हक़,
कि चाहिए हर किसी को
कुछ न कुछ
इस निष्ठुर प्रेमोन्माद में,
यहाँ कुछ भी देता कौन है...!***
  
             --- अमिय प्रसून मल्लिक.

2 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।